जलेस की पत्रिका नया-पथ पढने के लिये क्लिक करे!

शुक्रवार, 26 सितंबर 2008

सीडी के बाद शैम्पेन संस्कृति तक का सफर तय किया भाजपा ने

प्रकाश जावड़ेकर की इन्दौर में रंगीन पार्टी


मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार तो है ही लेकिन इस राज्य के साथ भाजपा का विशेष लगाव रहता है। शायद इसी लिये भाजपा अपनी असली संस्कृति का प्रदर्शन करने के लिये इसी राज्य का चुनाव करती है। इसी राज्य की राजधानी भोपाल में भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय संगठन मंत्री संजय जोशी की सैक्स सीडी प्रदर्शित हुई थी। अब इसी राज्य की व्यापारिक राजधानी इन्दौर में भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अपनी एक शाम रंगीन की है। एक कन्या विद्यालय में भारतीय संस्कृति पर व्याख्यान देने आये प्रकाश जावड़ेकर ने दिन में तो नैतिकता और भारतीय संस्कृति की दुहाई दी लेकिन शाम को एक होटल में रंगारंग पार्टी में न केवल शैम्पेन की बोतल खोली बल्कि जाम से जाम भी टकराये इतना ही नहीं जम कर डांस भी किया। यह बिल्कुल वैसी ही पार्टी थी जिसके विरोध में बजरंग दल और संघ परिवार भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिये होटलों पर हमले करता है, तोड़फोड़ करता है। मजेदार बात यह है कि जिस दिन प्रकाश जावड़ेकर की यह रात रंगीन हुई, उसके अगले सवेरे ही भाजपा के लोहपुरूष और पी एम इन वेटिंग लाल कृष्ण आडवाणी राज्य के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के साथ उज्जैन में महाकाल का आर्शीवाद लेकर देश और प्रदेश में भाजपा की सरकार के गठन का संकल्प लेने वाले थे। अखबारों में जावड़ेकर साहब की पार्टी की तस्वीरें छप जाने के बाद भगौडे आडवाणी भी दिन भर पत्रकारों से बचते रहें। इन्दौर के अपने कार्यक्रम को रद्द कर वे सीधे हवाई अड्डे पहुंचे। राज्य भाजपा के नेताओ ने भी इस पर खामोशी साध ली। भाजपा की अनुशासन समिति के अध्यक्ष कैलाश सारंग ने सिर्फ इतना कहा कि यदि यह मामला उनके सामने विचार करने के लिये आता है तो वे जरूर कार्यवाही करेंगे। नववर्ष के आयोजनों पर हंगामे खड़े करने वालों, वेलेंटाइन डे पर युवक युवतियों के साथ अभद्रता और मारपीट करने वालों, पार्कों और पर्यटक स्थलों पर जाकर लड़कियों के साथ मारपीट करने वाले संस्कृति के स्वयं भू ठेकेदारों से पूछा जाये कि क्या तुम्हारा असली चरित्र यही है?

(पाक्षिक लोकजतन से साभार)

9 टिप्‍पणियां:

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

नकली चेहरा सामने आए असली सूरत छिपी रहे।
असली चेहरा दिखाने के लिए आभार.....

संजीव कुमार सिन्हा ने कहा…

शाम को एक होटल में रंगारंग पार्टी में न केवल शैम्पेन की बोतल खोली बल्कि जाम से जाम भी टकराये इतना ही नहीं जम कर डांस भी किया।

आपने गलत जानकारी प्रस्‍तुत की है। प्रकाश जावडेकरजी शराब नहीं पीते है। नैतिकता को भ्रामक विचार बताने वाले, वोदका-कोक से कुल्‍ला करने वाले, सिगरेट के धुएं पर जिंदा रहनेवाले वाममार्गियों को यह सवाल उठाना शोभा नहीं देता है।

Ek ziddi dhun ने कहा…

achha peete nahi, pilate hain. pahle pramod mahajan par jimmedari thi, jaane kya-kya intjaam karne ki

sachin ने कहा…

PARESH AUR LEFT WALON KO NAHI BULAYA ISLIYE FATI HUI HAI....

प्रदीप मिश्र ने कहा…

ye sachin kaun hai. Kash teller ka kam karta to samajh mein ata fatne ka arth. Isko praud sikchha mein bhejo. Itne ghambheer vishaya par itni satahee tipanee shobha nahee detee hai.

Ek ziddi dhun ने कहा…

sanghiyon ko sab kuchh sobha deta hai...sangh ke svyamsevak bachpan se is sabd ke anubhav se gujarne lagte hain.

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

एक चेहरे पर दूसरा चेहरा लगा जो आ गये
मंच के संचालकों को लोग वे ही भा गये
जै हो

भवेश झा ने कहा…

आप चाहे हिन्दू होने पर गर्व करे पर हमें तो शर्म व गुस्सा आयेगा अगर कोई हम हिन्दू कहे। ये हिन्दू क्या होता है जरा इसका मतलब तो बताये। अगर सच्चे हिन्दू या हिन्दूत्ववादी हो तो किसी भी वैदिक ग्रंथ, वेद पुराण मिथको मैंसे हिन्दू या हिन्दूत्व शब्द निकाल कर दिखा दो।


fir aap kya ho sayad aako pahle ye tay karne me dikkat hogi, pr maine jaisa apke bare me aakalan kiya hai aap jaise log kaa bhagvan bhi malik nai hai,

Bahadur Patel ने कहा…

yah to hota hi rahata hai.
inhe koun samjhaye.
photo sahit sabut ke baad bhi is tarah se bokhalana? kya hai yah sab.
kathani aur karani me antar to mat karo bhai.