जलेस की पत्रिका नया-पथ पढने के लिये क्लिक करे!

गुरुवार, 23 जुलाई 2009

इंदिरा गाँधी की हत्या से भी भीषण हत्या

इंदिरा गाँधी की हत्या से भी भीषण हत्या

हरियाना में कोर्ट द्वारा सुरक्छा देने के स्पष्ट आदेश के बाबजूद सगोत्र विवाह करने वाले युवक की सरे आम पीट पीट कर हत्या कर देने से हरियाणा में किसी सरकार के न होने का प्रमाण मिलता है और उस सरकार को अब एक पल भी बने रहने का अधिकार नहीं है क्योंकि वह न तो नागरिक अधिकारों की रक्छा करने में सफल हुयी है और न ही कोर्ट का आदेश पालन करवाने में ही सक्छम सिद्ध हुयी है । वैसे तो यह घटना हरियाणा की सरकार को बर्खास्त करने के लिए काफी है किन्तु अमेरिका की गुलामी में लगी सरकार को इतना होश कहाँ की वह नागरिक अधिकारों और न्यायलय के आदेशों के परिपालन पर ध्यान दे . लालगढ़ में जिस तरह राज्य सरकार की असमर्थता पर केंद्र ने सी आर ऍफ़ भेज कर आतंकियों पर हमले किये लगभग वैसे ही हालात इस समय भी हैं . यह समय है की जब देश के सारे सुशिक्छित आधुनिक और पढ़े लिखे लोगों को एक साथ उठ कर विरोध करना चाहिए क्योंकि भाजपा जैसे पोंगापंथी दल तो चुप्पी साध जायेंगे

1 टिप्पणी:

Suresh Chiplunkar ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.